Thursday , October 28 2021
Home / भारत / सूरत से दुर्गापूजा पर व्यापारियों ने बंगाल में कपड़ा भेजने के लिए रेलवे से 10 टेक्सटाइल ट्रेन की बुकिंग की

सूरत से दुर्गापूजा पर व्यापारियों ने बंगाल में कपड़ा भेजने के लिए रेलवे से 10 टेक्सटाइल ट्रेन की बुकिंग की

पश्चिम रेलवे मुंबई मंडल को सूरत से पहली बार एक ही बार में कपड़ा लोडिंग के लिए व्यापारियों से आगामी दुर्गापूजा फेस्टिवल पर बंगाल के लिए बड़ा आर्डर मिल गया। जिसके लिए रेलवे ने टाइम टेबल भी बना लिया और ये ट्रेने बंगाल के संगरेल रवाना होंगी। शुक्रवार को मुंबई मंडल के डीआरएम जीवीएल सत्यकुमार ने सूरत टेक्सटाइल गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के साथ अग्रसेन भवन में  बड़ी बैठक हुई जिसमे व्यापारियों ने सीधे रेलवे के समक्ष अपनी अपनी बात रखी और रेलवे ने तमाम उनकी समस्याओ को सूना और समाधान किया जिसके बाद पहली बार रेलवे को सूरत से एक साथ 10 टेक्सटाइल स्पेशल ट्रेन का आर्डर भी मिल गया।

ऐसे मिला आर्डर 

दरअसल रेलवे की बिजनेस डेवलपमेंट पिछले डेढ़ साल से व्यापारियों को रिझाने की कोशिश कर रही थी लेकिन व्यापारी रेलवे ट्रांसपोर्ट की तरफ आकर्षित नहीं हो रहे थे। क्योंकि रेलवे ने फ्रेट के लिए फ्लेक्सिबल चार्ज लगा रखा था जिसमे व्यापारियों को रोड के मुकाबले रेलवे के कम फायदा दिख रहा था लेकिन इस बार रेलवे ने कपड़ा व्यापारियों को रिझाने के लिए फ्लेक्सिबल रेट हटा दिया और फ्रेट चार्ज को पी स्केल पर रख दिया है जबकि पहले आर स्केल पर होता था। पी स्केल चार्ज से व्यापारियों को पूरी ट्रेन में कपड़ा लोड करने के बाद 15 हजार की बचत हो रही है जबकि यही रोड ट्रांसपोर्ट में केवल 7 से 8 हजार की बचत होती थी।

दुर्गापूजा पर हमें रेलवे से फायदा 

इस बैठक में शामिल सूरत टेक्सटाइल गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के प्रेजिडेंट युवराज देसले ने भास्कर से कहा कि पहले हम दुर्गापूजा पर बंगाल से बड़ा आर्डर पाते थे और कपड़ा भेजने के लिए ज्यादातर ट्रकों से भेजते थे। जबकि मेल एक्सप्रेस ट्रेनों में लगे एसएलआर कोच में भी लोडिंग करते थे लेकिन वो महंगा पड़ता था जबकि रोड के जरिये माल पहुचंने में चार से पांच दिन लग जाते थे लेकिन अब रेलवे ने इस नई योजना के तहत टेक्सटाइल ट्रेन चलाने की योजना बनाई इससे हमें फायदा हो रहा है। क्योंकि रेलवे ने फ्लेक्सिबल चार्ज हटा दिया है जिससे हमें  अब रोड ट्रांसपोर्ट के सात से आठ हजार के मुकाबले रेलवे में  15 से 20 हजार की बचत होगी। साथ ही माल पहुंचने में पक्चुऐलटी होगी यानि माल केवल दो दिन में गंतव्य पर पहुंचेगा .

इन दिनों चलेगी टेक्सटाइल ट्रेन 

सूरत रेलवे स्टेशन के निदेशक दिनेश वर्मा ने जानकारी दी कि हम 22 अक्टूबर तक बेंगाल के संगरेल के लिए 10 टेक्सटाइल पार्सल ट्रेन चलाने जा रहे हैं जिसमे प्रत्येक ट्रेन 25 -25 कोच की होंगीं .प्रत्येक कोच में 238 -238 टन कपड़े लोडिंग होंगे। ये सभी ट्रेनें चलथान से रवाना होंगी।रेलवे को एक टेक्सटाइल ट्रेन से 9 से 10 लाख की आय होगी।  इसमें हम 22 सितंबर,24,29 ,1 अक्टूबर ,6 ,8 ,20 और 22 अक्टूबर को ये टेक्सटाइल ट्रेनें रवाना होंगी। जबकि हम एक ट्रेन 17 सितंबर को ही संगरेल के लिए रवाना किये हैं और एक 15 सितंबर को रवाना हुई। इसके अलावा हमें 10 और ट्रेनों की बुकिंग बंगाल के लिए ही मिली है जिसकी डेट निर्धारित होगी।

यह भी पढ़े- टी-20 वर्ल्ड कप में मुंबई इंडियंस के खिलाड़ियों का दबदबा, रोहित समेत 6 खिलाड़ी लिस्ट में शामिल