Breaking News
Home / भारत / योनो सेवा को लेकर भारतीय स्टेट बैंक ने RBI से माँगा स्पष्टीकरण

योनो सेवा को लेकर भारतीय स्टेट बैंक ने RBI से माँगा स्पष्टीकरण

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का सभी बैंकिंग सेवाओं के एकल सामधान मंच योनो की कार्यप्रणाली आधार सत्यापन पर सर्वोच्च अदालत के फैसले के बाद से पूर्ण्तः प्रभावित है। बैंक ने इसके मद्देनजर वैकल्पिक समाधान को लेकर RBI से स्पष्टीकरण की मांग की है।

आपको बता दे की सर्वोच्च अदालत ने 26 सितंबर को एक आदेश में कहा था कि बैंकिंग सेवाओं की उपलब्धता या बैंक खाता खोलने के लिए 12 अंकों वाली विशिष्ट आधार संख्या को जोडऩा अनिवार्य नहीं है। उसके बाद से SBI ने ‘यू ओनली नीड वन (योनो)’ के जरिये बिना दस्तावेजों के खाता खोलने की सुविधा को तात्कालिक तौर पर बंद कर दिया है। उपभोक्ताओं को अब खाता खुलवाने के लिये बैंक शाखा जाना पड़ रहा है।

अधिकारी ने कहा, ‘‘अभी E-KYC की स्वीकृति नहीं है, अत: हम RBI से कुछ स्पष्टीकरण चाहते हैं। हमने इस बारे में नियामक से चर्चा की है। जब स्पष्टीकरण आ जाएगा, हम इसे (आधार के जरिए E-KYC) शुरू कर सकते हैं।’’ बैंक ने नवंबर 2017 में योनो की शुरूआत की थी। उसके बाद से योनो के जरिए तकरीबन 25 लाख से अधिक उपभोक्ता SBI से जुड़ चुके हैं। बैंक ने अगले दो साल में योनो के जरिए उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ाकर तकरीबन 25 करोड़ करने का लक्ष्य तय किया है।

Loading...
Loading...