Home / भारत / स्टार्ट-अप और डिजिटलीकरण होंगे भारत को पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने वाले इंजन

स्टार्ट-अप और डिजिटलीकरण होंगे भारत को पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने वाले इंजन

2025 तक भारत को पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के बारे में उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा है कि अर्थव्‍यवस्‍था को इस स्‍तर पर ले जाने वाले इंजन स्टार्ट-अप और डिजिटलीकरण होंगे। इस संदर्भ में, उन्होंने सुझाव दिया कि प्रत्येक स्कूल और कॉलेज को नवाचार विभागों की स्थापना करनी चाहिए और उद्यमिता की संस्कृति को बढ़ावा देना चाहिए।

मकान खरीदने वाले व्‍यक्ति को मिलेगा 7 लाख रुपये का लाभ

उपराष्ट्रपति ने कहा कि सरकार ने समग्र परिवर्तन के लिए 117 आकांक्षापूर्ण जिलों की पहचान की है और युवा इनोवेटर्स को उन जिलों में परिवर्तन लाने के लिए जन आंदोलनों का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा “सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन” के लिए किए गए आह्वान का उल्लेख करते हुए, नायडू ने कहा कि इस संदेश का अर्थ अत्‍यंत व्‍यापक है और उन्हें यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि प्रधानमंत्री ने एक महान परिवर्तक के रूप में कार्य किया है। उन्होंने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति श्री बराक ओबामा के टाइम मैगज़ीन में दिए गए वक्‍तव्‍य का भी स्‍मरण किया, जिसमें ओबामा ने श्री मोदी को’रिफॉर्मर-इन-चीफ’ कहा था।

उन्होंने कहा कि राष्ट्र का परिवर्तन लोगों के जीवन की उन्‍नति के लिए है और नवाचार इस प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

प्रशिक्षित और सक्षम युवा भारत में नवाचार के अग्रदूत बनने चाहिए इस दिशा में उपराष्ट्रपति ने उन्‍हें अपने कौशल को बढ़ाने और नए क्षेत्रों का पता लगाने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने युवाओं से अनूठी सोच और समस्या समाधान के दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए पुनर्सुधार शिक्षा और प्रशिक्षण प्रणाली के गठन का भी आह्वान किया।

उपराष्ट्रपति ने डिजिटल इंडिया और अटल टिंकरिंग लैब्स जैसी सरकारी योजनाओं का अच्छा उपयोग करने का भी सुझाव दिया। भारत के वैश्विक नवाचार केन्‍द्र के रूप में उभरने के लिए यह योजनाएं समय की आवश्यकता हैं।

मकान खरीदने वाले व्‍यक्ति को मिलेगा 7 लाख रुपये का लाभ

Loading...
Loading...