Home / भारत / बाबा शोभन सरकार के निधन पर उमड़ी भीड़, की थी 1000 टन सोने के खजाने की भविष्यवाणी

बाबा शोभन सरकार के निधन पर उमड़ी भीड़, की थी 1000 टन सोने के खजाने की भविष्यवाणी

भविष्यवक्त बाबा शोभन सरकार का देहांत हो गया है। उन्होंने बुधवार को सुबह 5 बजे अपने आश्रम स्थित आरोग्य धाम अस्पताल में अंतिम सांस ली। उनके निधन के बाद आस-पास के क्षेत्र में शोक का माहौल बन गया। लोग लॉकडाउन को भुलाकर बाबा के आश्रम की तरफ भीड़ में दौड़ पड़े है।

बाबा शोभन सरकार सबसे ज्यादा चर्चा में जब आये, तब उन्होंने 2013 में उन्नाव जिले के डौंडियाखेड़ा गांव में राजा राव रामवख्श के खंडहर हो चुके महल में 1000 टन सोने का भंडार होने का सपना देखा था। बता दे राजा राव रामबख्श को स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महल पर कब्जा कर अंग्रेजों ने फांसी दे दी थी। बाबा शोभन सरकार के सपने के आधार पर एएसआई ने 18 अक्टूबर को महल में खुदाई शुरू कराई जो करीब एक महीने (19 नवंबर 2013) तक चली।

इस काम में प्रदेश सरकार के 2.78 लाख रुपये खर्च हो गए लेकिन सोना का भंडार न मिलने पर खुदाई को रोक दिया गया। जिसके बाद राज्य सरकार की काफी किरकिरी हुई। जानकारी के लिए बता दे शोभन सरकार का वास्तविक नाम महंत विरक्ता नन्द था। कानपुर देहात के शिवली में जन्मे शोभन सरकार के भक्तों की संख्या कई जिलों तक फैली है। महज 11 की उम्र में वैराग्य प्राप्त करने वाले शोभन ने गांव के लोगों के जनहित में कई बड़े काम किये थे।

यह भी पढ़े: आत्मनिर्भर भारत के लिए पीएम मोदी ने की 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा
यह भी पढ़े: पैड लगाने के कारण होने वाली रैशेज की समस्या से ऐसे पायें निजात

Loading...