Home / भारत / तेल आयात में इस साल होगी बहुत कम बढ़त

तेल आयात में इस साल होगी बहुत कम बढ़त

रकार की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस साल तेल आयात में सिर्फ 3.5 फीसदी की वृद्धि होने का अनुमान है| भारत में इस साल तेल आयात में बढ़त की दर कम रहेगी| इस अनुमान से भले ही सरकार के खजाने पर भार हो, लेकिन यह देश में लंबी आर्थिक सुस्ती का संकेत है|

भारत को अपनी तेल की जरूरतों का 80 फीसदी से ज्यादा आयात करना पड़ता है|  तेल का आयात कम होने से मांग और खपत में सुस्ती रहने का संकेत मिलता है| न्यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, पेट्रोलियम मंत्रालय के अधीन पेट्रोलियम प्लानिंग ऐंड एनालिसिस सेल (पीपीएसी) ने कहा है कि देश का तेल आयात वित्त वर्ष 2019 के 22.7 करोड़ टन के मुकाबले 2020 में 23.3 करोड़ टन रह सकता है.

तेल आयात की दर सुस्त होना सरकार के खजाने के लिए अच्छ खबर है, लेकिन कच्चे तेल का आयात कम होने से भारतीय रिफाइनरीज को कम तेल मिलेगा और पेट्रोल, डीजल व विमान ईंधन (एटीएफ) की खपत में कमी आएगी|

वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही में सुस्ती देखी गई और जीडीपी विकास दर घटकर 6.6 फीसदी पर आ गई|

अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती के कारण वित्त वर्ष 2019 में आर्थिक विकास दर अनुमान 7.2 फीसदी से घटाकर सात फीसदी कर दिया गया| अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों ने भी भारत की आर्थिक विकास दर अनुमान वित्त वर्ष 2020 में घटाकर 7.3 फीसदी रहने का अनुमान जारी किया है|

वित्त मंत्रालय की नवीनतम मासिक आर्थ‍िक रिपोर्ट में यह बात स्वीकार की गई है कि निर्यात टारगेट के मुताबिक न होने, निजी खपत उम्मीद से कम और फिक्स्ड इनवेस्टमेंट में नरम बढ़त की वजह से वित्त वर्ष 2018-19 में भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार सुस्त पड़ी है| शेयर बाजार में तेजी और महंगाई में कमी की वजह से अर्थव्यवस्था के लिए आउटलुक सकारात्मक बना हुआ है और आगे अर्थव्यवस्था की रफ्तार अच्छी रहेगी|

इसके पहले एशियाई विकास बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसी अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं भी भारतीय अर्थव्यवस्था में जीडीपी में ग्रोथ के अनुमान को घटाया है. एडीबी ने कहा कि वित्त वर्ष 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7.2 फीसदी ही रहेगी. IMF का अनुमान है कि 2019-20 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7.3 फीसदी रहेगी, जो 2020-21 में बढ़कर 7.5 फीसदी पर पहुंच जाएगी.

Loading...
Loading...