Wednesday , October 23 2019
Breaking News
Home / व्यापार / Nuclear Energy में भारत की भूमिका का आकलन करने के लिए ‘थिंक-टैंक’ पॉलिसी

Nuclear Energy में भारत की भूमिका का आकलन करने के लिए ‘थिंक-टैंक’ पॉलिसी

मुम्बई: भारत के अग्रणी प्रदर्शनी आयोजनकर्ता UBM India द्वारा नेहरू सेंटर, वर्ली, मुम्बई में 20-21 अक्टूबर, 2016 को नागरिक नाभिकीय ऊर्जा क्षेत्र के लिए अपनी प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी और सम्मेलन India Nuclear Energy का आठवां संस्करण आयोजित किया जाएगा। यह एकमात्र ऐसी प्रदर्शनी और सम्मेलन है जो नागरिक नाभिकीय ऊर्जा उद्योग की वृद्धि व विकास में सहयोग करने व बढ़ावा देने के लिए है। INE को DAE (Department of Atomic Energy) और द्वारा सह-आयोजित औरNPCIL (Nuclear Power Corporation of India Ltd.) द्वारा समर्थित किया गया है।

INE 2016 के उद्‌घाटन के अवसर पर कई प्रतिष्ठित व्यक्तियों व उद्योग जगत के अग्रणी लोगों की भागीदारी होगी। इनमें H.E. Alexandre Ziegler, भारत में फ्रांस के राजदूत, H.E. Milan Hovorka, भारत में चेक दूतावास के राजदूत, H.E. Andrei Zhiltsov, मुम्बई में रूस के कांसुल जनरल, Mr. Alexey Pimenov – सीईओ, Russian State Atomic Energy Corporation (ROSATOM), दक्षिण एशिया, और Mr. Vakisasai Ramany, सीनियर वाईस प्रेसिडेंट – डेवेलपमेंट – New Nuclear Projects & Engineering EDF, France, व अन्य की भागीदारी इस प्रमुख औद्योगिक आयोजन में अपेक्षित है।

60 से अधिक प्रदर्शनीकर्ताओं की भागीदारी वाले इस एक्सपो में DAE, NPCIL, Bhabha Atomic Research Centre (BARC), World Nuclear Association (WNA), ROSATOM, Atomic Energy Regulatory Board (AERB) और नागरिक नाभिकीय उद्योग की निजी कंपनियों जैसे कि Walchandnagar Industries, Kirloskar Brothers Ltd, L&T Special Steels और Heavy Forging Pvt. Ltd. के अधिकारियों की भागीदारी होगी। इसमें नागरिक नाभिकीय उद्योग के लिए औद्योगिक आपूर्तिकर्ताओं की ओर से नवीनतम पेशकशें और तकनीकें प्रदर्शित की जाएंगी जिनमें नवप्रवर्तन, सिस्टम ऑप्टिमाइजेशन, रखरखाव और स्थिति निगरानी उपकरण सम्मिलित हैं।

यह दो दिवसीय आयोजन, राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों को नाभिकीय क्षेत्र की विशाल संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए फ्रांस,रूस, कनाडा, कोरिया, अमेरिका, फिनलैण्ड और भारत जैसे देशों के प्रदर्शनीकर्ताओं से मिलने-जुलने और नेटवर्क बनाने के अवसर उपलब्ध कराएगा।

दोनों दिन गहन विषयों पर सम्मेलन इस आयोजन की विशेषता है। पहले दिन ‘Exploring Infinity in an Atom: Vision 2032 (परमाणु में अनंत की खोजः विजन 2032) थीम पर चर्चा होगी। इसके अंतर्गत ‘Setting the Tone: A Roundtable Discussion on Vision 2032 (लय निर्धारित करनाः विज़न 2032 पर एक गोलमेज विमर्श)‘ पर एक गोलमेज सम्मेलन शामिल है जिसमें सर्वोत्तम विधियों, तथा 2032 तक 63,000 MW का लक्ष्य हासिल करने की भारत की योजनाओं पर प्रकाश डाला जाएगा। इसमें – ‘Spelling Out the Supply Chain: Manufacturer’s Perspective (आपूर्ति श्रृंखला का विश्लेषणः निर्माता के दृष्टिकोण से), ‘Recovering, Reprocessing and Recycling: The fundamental significance of Nuclear Fuel & Material in ensuring a smooth supply (रिकवरिंग, रिप्रोसेसिंग और रिसाइकिलिंगः सुचारू आपूर्ति सुनिश्चित करने में नाभिकीय ईंधन और सामग्री का बुनियादी महत्त्व) और ‘Reiterating the Obvious: The Importance of Technology Transfer, Training and Skill Development (स्पष्टता पर जोर देते हुएः तकनीकी हस्तांतरण, प्रशिक्षण और कौशल विकास का महत्त्व) आदि विषयों पर पैनल चर्चाएं भी होंगी।

प्रमुख मुद्‌दों पर कई तकनीकी प्रस्तुतिकरण, चर्चाओं को संपूर्ण बनाएंगे। इंजीनियरिंग प्रोक्योरमेंट एंड कंस्ट्रक्शन (EPC), ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर (OEM), सिस्टम बिल्डर्स और एंड-यूजर श्रेणी में अग्रणी कंपनियों के साथ B2B स्पीड बैठकें और ऑनसाइट एंगेजमेंट बैठकें की जाएंगी। दूसरे दिन ROSATOM की ओर से ‘Public Acceptance – Role of Professional Bodies (सार्वजनिक स्वीकार्यता – पेशेवर संस्थाओं की भूमिका) विषय पर सत्र आयोजित किए जाएंगे। इस सत्र के विषयों में ये शामिल हैं: ‘Ecology and Safety of Atomic Energy (पारिस्थितिकी, तथा नाभिकीय ऊर्जा की सुरक्षा),‘Radiation Technologies (विकिरण तकनीकें) और ‘Public Acceptance as an Integral Part of Nuclear Industry Infrastructure (नाभिकीय उद्योग अवसंरचना के अभिन्न अंग के रूप में सार्वजनिक स्वीकार्यता), इसके अलावा‘e-Portal Registration (ई-पोर्टल पंजीकरण) पर NPCIL की ओर से तथा ‘State Vendor Development program(राज्य सेवाप्रदाता विकास कार्यक्रम) पर Micro Small & Medium Enterprises Development Institute, Government of India (MSME) की ओर से सत्र आयोजित किए जाएंगे।

इस एक्सपो में प्रमुख हस्तियों जैसे कि Dr. RB Grover, होमी भाभा चेयर सदस्य, परमाणु ऊर्जा आयोग, तथा दुनिया भर से प्रतिष्ठित वक्ताओं की भागीदारी होगी जिनमें Mr. Kaustubh Shukla, चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर – इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट्‌स डिवीजन, M/s. Godrej & Boyce Mfg Co Ltd., Mr. Nikita Mazein, वाईस प्रेसिडेंट, ROSATOM Overseas, Mr. Raphaël Hernandez, एक्जीक्यूटिव एडवाइजर फॉर इंडस्ट्रियल पॉलिसी – न्यू न्यूक्लियर प्रोजेक्ट्‌स एंड इंजीनियरिंग डिवीजन, EDF France, Mr. Haïkel Ben Aoun, डेवेलपमेंट मैनेजर GIIN & PROMINF, Mr. CK Asnani, सीएमडी, यूरेनियम कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (UCIL), Mr. Oussama Ashy, डायरेक्टर, बिजनेस डेवेलपमेंट, Western Services Corporation, Mr. Mani TT, मैनेजिंग डायरेक्टर व सीईओ, Avasarala, Mr. Shah Nawaz Ahmad, सीनियर एडवाइजर, इंडिया मिडिल ईस्ट एंड साउथ-ईस्ट एशिया, World Nuclear Association (WNA), लंदन, Mr. Juha Asanti, रीजनल मैनेजर, दि मिडिल ईस्ट एंड साउथ ईस्ट एशिया, Cadmatic आदि प्रमुख हैं, जो नाभिकीय ऊर्जा से संबंधित प्रमुख मुद्‌दों और रूझानों पर चर्चा करेंगे।

INE के आठवें संस्करण की घोषणा करते हुए Mr. Yogesh Mudras, मैनेजिंग डायरेक्टर, UBM India ने कहा कि, “ऊर्जा, विकास की चालक है और नाभिकीय ऊर्जा, भारत की ऊर्जा आवश्यकताएं पूरी करने के लिए अनिवार्य है। आत्म-निर्भरता हासिल करना हमारे देश का पहला लक्ष्य है और उसके बाद फास्ट रिएक्टर्स और थोरियम ईंधन चक्र में अपनी विशेषज्ञता के बूते नाभिकीय तकनीक के क्षेत्र में दुनिया में अग्रणी बनने का इरादा है। India Nuclear Energy 2016 लांच पैड की तरह काम करने वाली महत्त्वपूर्ण तकनीकों को पेश करेगा जो देश में बिजली की प्रचुर उपलब्धता ला सकती हैं। यह हितधारकों को आपस में मेल-मुलाकात करने तथा भारत में नागरिक नाभिकीय ऊर्जा क्षेत्र में नेटवर्क बनाने के लिए एक आदर्श प्लेटफार्म भी उपलब्ध कराएगा।”

उन्होंने आगे कहा कि, “चूंकि भारत COP 21 समझौते का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध है, इसलिए स्वच्छ नाभिकीय ऊर्जा एक अतिरिक्त लाभ प्रदान करेगी और NSG वार्ताओं के परिप्रेक्ष्य में इस वर्ष अपेक्षाएं और आशाएं अधिक बढ़ गई हैं।”

जरूर पढें: लाइफस्टाइल एंड हेल्थ के खास आर्टिकल्स

नहीं पीनी चाहिए ज्यादा ग्रीन टी, सेहत के लिए नुकसानदायी!

पपीते के गुण जानकर हो जाएंगे हैरान, कीजिए रोज सेवन!

पुदीने में छूपे हैं कई गुण, जो रखेंगे सेहत को ठीक!

हल्दी और तेल सेहत के लिए फायदेमंद, ऐसे कीजिए सेवन!

कपूर का तेल कई गुणों से भरपूर !

नमक के पानी से नहाने से होगी थकान दूर, जानिए टिप्स!

सेहत के लिए बहुत उपयोग हैं किशमिश, करें सेवन!

नाखून बताएंगे आपकी सेहत ठीक है या नहीं!

मिल्क पैडीक्योर से निखारा जा सकता है पैरो को

ऐसे दूर होगी बच्चों की भूख, जानिए टिप्स

खाने की आदतों में अचानक बदलाव से हो सकते हैं बीमार

चना सेवन करने से सेहत को मिलते हैं कई फायदे

(इस खबर को बिजनेस संदेश टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Loading...
Loading...