Home / भारत / एनएसई ने टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर में किया 900 करोड़ रुपये का निवेश

एनएसई ने टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर में किया 900 करोड़ रुपये का निवेश

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) ने पिछले 3-4 वर्षों से लगातार अपनी टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर में भारी निवेश किया है। एनएसई नेटेक्नोलॉजी में पूंजीगत और परिचालन व्यय में अपने वार्षिक नकद खर्च को तिगुना बढ़ा कर लगभग 900 करोड़ रुपये कर दिया है।

एनएसई की तकनीकी पहल लगभग 1500 से अधिक कर्मचारियों और वेंडर स्टाफ के मजबूत टेक्नोलॉजी वर्कफोर्स द्वारा संचालित है।

एनएसई के पास मजबूत, लचीला, सुरक्षित और फॉल्ट-टोलरेंटटेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर है जो सिस्को, एचपी, डेल, हिटाची, चेकपॉइंट, पालो ऑल्टो, ओरेकल जैसे वेंडर्स के बेस्ट-इन-क्लास उपकरणों द्वारा समर्थित है और टीसीएस, कॉग्निजेंट, और विप्रो जैसे सक्षम टेक्नोलॉजी सर्विस प्रोवाइडर्स द्वारा सहायता प्राप्त है।

एनएसई के पास मजबूत टेक्नोलॉजी गवर्नेन्स प्रोसेस है, जिसमें स्टैंडिंग कमिटी फॉर टेक्नोलॉजी जैसी समितियों द्वारा नियमित रूप से टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर की समीक्षा की जाती है, जिसमें टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट्स होते हैं और खास विशेषज्ञता रखने वाले विभिन्न फर्मों/संस्थानों द्वारा कई प्रकार के ऑडिट भी होते हैं।

मल्टीपल ट्रांसफॉर्मेशनल प्रोजेक्ट्स पूरे किये जा चुके हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि हमारे सिस्टम  मजबूत, लचीली, सुरक्षित और अत्याधुनिक बने रहें।

वॉल्यूम के मामले में एसएसई दुनिया का सबसे बड़ा डेरिवेटिव एक्सचेंज है और पिछले एक साल में वैश्विक महामारी के कारण पैदा हुए चुनौतीपूर्ण बाहरी वातावरण के बावजूद, व्यापार पर किसी तरह का असर डाले बिना प्रभावशाली ढंग से हाई वॉल्यूम को संभालने का इसका प्रमाणित ट्रैक रिकॉर्ड है।

इक्विटी और इक्विटी डेरिवेटिव सेगमेंट के दैनिक औसत वॉल्यूम 2019 की तुलना में 2021 में क्रमशः122% और 79% तक बढ़ गये हैं। सभी सेगमेंट के दौरान प्रति दिन औसत ऑर्डर मैसेज लगभग 200% बढ़ गये हैं, जिसमें एक दिन में 6.5 बिलियन ऑर्डर मैसेज का पीक लोड शामिल है। इसके अलावा, एनएसई और एनएसई क्लियरिंग ने भी पिछले दो वर्षों में इंटेरोपेरेबिलिटी जैसे कई संरचनात्मक बदलावों को सहज तरीके से लागू किया है।

एनएसई लगातार रुकावट-मुक्त वातावरण प्रदान करने का प्रयास करता है। हालांकि, जटिल टेक्नोलॉजी आर्किटेक्चर में कनेक्टिविटी और हार्डवेयर के संदर्भ में महत्वपूर्ण बाहरी निर्भरताऔर वेंडर पर निर्भरता बनी रहती है। इसका ध्यान रखना ठीक है कि वैश्विक रूप से, पिछले दो वर्षों में, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, जापान, जर्मनी और यूके जैसे कई बाजारों में व्यापारिक आउटेज हुए हैं।

एनएसई की संस्कृतिटेक्नोलॉजी में इनोवेशन और सक्रिय निवेश की है।साइज, स्केल और हर पहलू से एनएसई की प्रोपराइटरी टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर दुनिया के सर्वोत्तम प्रोपराइटरी टेक्नोलॉजी इंफ्रास्ट्रक्चर के बराबर है। बाजार प्रथाओं, उत्पादों, सेवाओं और टेक्नोलॉजी के संदर्भ में एनएसई द्वारा निर्धारित मानक उद्योग के मानक बन गये हैं।