Home / भारत / शाम है, रात है और…

शाम है, रात है और…

नई दिल्ली। वर्ष 2017 से 2018 में प्रवेश करने में कुछ घंटों का फासला हैं, ये वर्ष भी अलविदा हो जाएगा, फिर एक नया वर्ष आएगा, नए अरमान के साथ। कहते हैं हर साल बितता जाता हैं, वक्त हर पल बालू रेत के समान निकलता जाता हैं। वक्त किसी का इंतजार नहीं करता।

लेकिन अगर किसी को करना हैं तो वे वक्त का इंतजार करें। दिल में कुछ अरमान हैं, ऐसे में खुशी हैं तो 2018 में प्रवेश करने की तो गम हैं तो 2017 का छोड़ने का। प्रकृति के नियम ओर कायदे उसी के हसूलों पर चलते हैं ये इंसान के हाथ में नही हैं, ये सब ऊपर वाले के हाथ में हैं, हमारे हाथ में हैं तो कुछ अच्छे कर्म, मानवता की सहायता करना, इंसानियत खराब नहीं करना हैं। जिंदगी कुछ हसूलो पर चलती हैं। इंसान को उनका पालन करना चाहिए।

ऐसे पाएं बलगम की समस्या से राहत, अपनाए ये टिप्स!

चलिए अब बात करते हैं मुद्दे की, तो आज की शाम कुछ रंगीन होगी, होटल से लेकर रेस्त्रां तक सजकर तैयार हैं, नए वर्ष के आगाज के लिए शाम से पार्टी शुरू होगी जो रात 12 बजे तक कुछ रंगीन होगी। लोग नए वर्ष के स्वागत के लिए तैयार हैं, ऐसे नांच गाने के साथ खूब मस्ती होगी।

साल की आखिरी शाम, उस पर नए वर्ष के स्वागत का जोश। ऐसे में भला कौन होश में रहना चाहेगा। तय है कि रविवार की शाम हर कोई दिल खोलकर नए वर्ष का स्वागत करेगा। जैसे-जैसे घड़ी की सुई बारह बजे की ओर बढ़ेगी, जश्न जवान होता जाएगा।

जूस का सेवन करते समय इन बातों का अवश्य रखें ध्यान

यूं तो नए साल का स्वागत हर कोई अपने ढंग से करेगा, लेकिन हजारों की संख्या में ऐसे लोग भी होंगे जो नए वर्ष का जश्न मनाने के लिए विशेष तौर पर आयोजित ‘न्यू ईयर पार्टी’ में जाएंगे। इन पार्टियों में गीत-संगीत की महफिल जमेगी। हर वर्ष की तरह इस साल भी शहर के क्लबों में न्यू ईयर पार्टी का आयोजन किया गया है, जहां पर देर रात तक जश्न मनाया जाएगा। इसके अलावा देशभर के रेस्तरां और बार भी नए साल की तैयारी में है।

गोवा में नए वर्ष का जश्न
गोवा का 105 किलोमीटर लंबे तटीय इलाका नया वर्ष मनाने के लिए बेताब हैं।नव वर्ष को मनाने के लिए इस वर्ष अधिक पर्यटक यहां पहुंचे हैं। समुद्र के तट पहले ही पर्यटकों से अटे पड़े हैं। कसीनों के अधिकारियों ने बताया कि कसीनों आने वाले लोगों की संख्या में पिछले साल की तुलना में 40 प्रतिशित की बढ़ोत्तरी हुई है। सैलानी अभी से समुद्र के तटों पर पार्टी करने में मशगूल हो गए हैं। इन सैलानियों में अधिकतर इंडियन हैं।

-इस बार 31 दिसंबर रविवार है सोमवार से स्कूलों में बच्चों की छुट्टियां है। ऐसे में परिवार 31 दिसंबर का जश्न मनाने के लिए तैयार है।

Loading...