Home / मनोरंजन / Review: गाना, बजाना, पैकेजिंग और हर तरह का धूम धड़ाका है फिल्म ‘स्ट्रीट डांसर 3D’

Review: गाना, बजाना, पैकेजिंग और हर तरह का धूम धड़ाका है फिल्म ‘स्ट्रीट डांसर 3D’

एक्टर्स : श्रद्धा कपूर, नोरा फतेही, वरुण धवन, धर्मेंश येलंडे, पुनीत पाठक, सलमान युसुफ खान और राघव जुयाल आदि।
डायरेक्टर : रेमो डिसूजा
प्रोड्यूसर: भूषण कुमार, लेजली डिसूजा
रेटिंग: 2.5 स्टार

इस सदी में या इस सदी के शुरू होने के चार छह साल पहले जन्मी पीढ़ी को तो खैर मिथुन चक्रवर्ती की फिल्म डिस्को डांसर और गोविंदा की फिल्म इल्जाम के बारे में कम ही पता होगा, लेकिन इन दोनों फिल्मों की आत्मा का ही नया अवतार रही हैं एबीसीडी सीरीज की फिल्में। इस सीरीज की तीसरी फिल्म का नाम अलग रखा गया है। लेकिन कहानी का मूल वही है। गली गली संघर्ष करने वाली युवा पीढ़ी नए जमाने में मोबाइल पर व्यस्त है और हिंदी सिनेमा के हीरो हीरोइन की गलियां भी लंदन की हो चली हैं। स्ट्रीट डांसर पूरी तरह न्यू मिलेनियल्स की फिल्म है। गाना, बजाना, पैकेजिंग और हर तरह का धूम धड़ाका। कहानी इस तरह की फिल्मों मे ज्यादा मायने नहीं रखती।

कहानी
एनआरआई सहज (वरुण धवन) इंडिया से काफी सारा पैसा लेकर लंदन लौटता है और डांस प्रैक्टिस के लिए जगह खरीदता है। सहज का बड़ा भाई (पुनीत) डांस बैटल के फाइनल राउंड में चोटिल हो जाता है और कॉम्पटीशन हार जाता है। जिसके बाद सहज का सपना होता है कि उस बैटल को जीते, लेकिन उसकी टीम कमजोर होती है। सहज की गर्लफ्रेंड मिया (नोरा फतेही) होती है, जो ब्रिटेन डांस टीम द रॉयल्स में रहती है। वहीं इनायत (श्रद्धा कपूर) अपनी डांस टीम के साथ सहज का मजाक उड़ाती रहती है। इनायत का डांस ग्रुप पाकिस्तान से होता है, जबकि सहज का ग्रुप इंडिया से। ऐसे में एक रेस्टोरेंट के ओनर राम प्रसाद (प्रभुदेवा) के यहां दोनों ग्रुप क्रिकेट मैच देख रही होती है, तभी आपस में दोनों ग्रुप की लड़ाई हो जाती है। फिर शुरू होता है डांस को लेकर बैटल और बाकी की कहानी जानने के लिए आपको पूरी फिल्म देखनी होगी।

रिव्यु
फिल्म  फिल्म ‘स्ट्रीट डांसर  3D’ की शुरुआत में आपको उत्सुकता बनी रही रहेगी कि आखिर कब इंटरेस्ट के साथ फिल्म देखना शुरू की जाए, लेकिन आपका इंतजार लंबा होता चला जाएगा और इंटरवेल हो जाता है। यानी फिल्म के पहले हिस्से कहानी आप पर पकड़ बनाने में कामयाब नहीं हो पाती। हालांकि दूसरे हिस्से में फिल्म को टाइट करने की कोशिश की गई है। यह फिल्म सीक्वल नहीं है, लेकिन कई जगहों पर ऐसा लगेगा कि ‘एबीसीडी’ और ‘एबीसीडी 2’ के हिस्सों को दोहराई गई है। यानी आपको ‘स्ट्रीट डांसर’ फिल्म का नाम सुनकर लगेगा कि गली-मोहल्ले का डांसर्स कुछ नया कर दिखाएंगे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। जबकि फिल्म की कहानी का मकसद ब्रिटेन में रहने वाले भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका जैसे देशों के इमिग्रेंट्स को वापस उनके देश भेजा जाए, जिनकी मदद स्ट्रीट डांसर की टीम करती है।

अगर आपको सिर्फ डांस देखना है और कहानी में कोई इंटरेस्ट नहीं तो देखा जा सकता है। लेकिन यदि आप किसी नयेपन की कहानी की तलाश में गानाबजानापैकेजिंग और हर तरह का धूम धड़ाका है फिल्म स्ट्रीट डांसर 3D’ !

एक्टर्स : श्रद्धा कपूर, नोरा फतेही, वरुण धवन, धर्मेंश येलंडे, पुनीत पाठक, सलमान युसुफ खान और राघव जुयाल आदि।
डायरेक्टर : रेमो डिसूजा
प्रोड्यूसर: भूषण कुमार, लेजली डिसूजा
रेटिंग: 2.5 स्टार

इस सदी में या इस सदी के शुरू होने के चार छह साल पहले जन्मी पीढ़ी को तो खैर मिथुन चक्रवर्ती की फिल्म डिस्को डांसर और गोविंदा की फिल्म इल्जाम के बारे में कम ही पता होगा, लेकिन इन दोनों फिल्मों की आत्मा का ही नया अवतार रही हैं एबीसीडी सीरीज की फिल्में। इस सीरीज की तीसरी फिल्म का नाम अलग रखा गया है। लेकिन कहानी का मूल वही है। गली गली संघर्ष करने वाली युवा पीढ़ी नए जमाने में मोबाइल पर व्यस्त है और हिंदी सिनेमा के हीरो हीरोइन की गलियां भी लंदन की हो चली हैं। स्ट्रीट डांसर पूरी तरह न्यू मिलेनियल्स की फिल्म है। गाना, बजाना, पैकेजिंग और हर तरह का धूम धड़ाका। कहानी इस तरह की फिल्मों मे ज्यादा मायने नहीं रखती।

कहानी
एनआरआई सहज (वरुण धवन) इंडिया से काफी सारा पैसा लेकर लंदन लौटता है और डांस प्रैक्टिस के लिए जगह खरीदता है। सहज का बड़ा भाई (पुनीत) डांस बैटल के फाइनल राउंड में चोटिल हो जाता है और कॉम्पटीशन हार जाता है। जिसके बाद सहज का सपना होता है कि उस बैटल को जीते, लेकिन उसकी टीम कमजोर होती है। सहज की गर्लफ्रेंड मिया (नोरा फतेही) होती है, जो ब्रिटेन डांस टीम द रॉयल्स में रहती है। वहीं इनायत (श्रद्धा कपूर) अपनी डांस टीम के साथ सहज का मजाक उड़ाती रहती है। इनायत का डांस ग्रुप पाकिस्तान से होता है, जबकि सहज का ग्रुप इंडिया से। ऐसे में एक रेस्टोरेंट के ओनर राम प्रसाद (प्रभुदेवा) के यहां दोनों ग्रुप क्रिकेट मैच देख रही होती है, तभी आपस में दोनों ग्रुप की लड़ाई हो जाती है। फिर शुरू होता है डांस को लेकर बैटल और बाकी की कहानी जानने के लिए आपको पूरी फिल्म देखनी होगी।

रिव्यु
फिल्म  फिल्म ‘स्ट्रीट डांसर  3D’ की शुरुआत में आपको उत्सुकता बनी रही रहेगी कि आखिर कब इंटरेस्ट के साथ फिल्म देखना शुरू की जाए, लेकिन आपका इंतजार लंबा होता चला जाएगा और इंटरवेल हो जाता है। यानी फिल्म के पहले हिस्से कहानी आप पर पकड़ बनाने में कामयाब नहीं हो पाती। हालांकि दूसरे हिस्से में फिल्म को टाइट करने की कोशिश की गई है। यह फिल्म सीक्वल नहीं है, लेकिन कई जगहों पर ऐसा लगेगा कि ‘एबीसीडी’ और ‘एबीसीडी 2’ के हिस्सों को दोहराई गई है। यानी आपको ‘स्ट्रीट डांसर’ फिल्म का नाम सुनकर लगेगा कि गली-मोहल्ले का डांसर्स कुछ नया कर दिखाएंगे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। जबकि फिल्म की कहानी का मकसद ब्रिटेन में रहने वाले भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका जैसे देशों के इमिग्रेंट्स को वापस उनके देश भेजा जाए, जिनकी मदद स्ट्रीट डांसर की टीम करती है।

अगर आपको सिर्फ डांस देखना है और कहानी में कोई इंटरेस्ट नहीं तो देखा जा सकता है। लेकिन यदि आप किसी नयेपन की कहानी की तलाश में  है तो शायद आपको यह मिसिंग लगेगा। हालांकि यह फिल्म आपको एक मैसेज देगा।

Loading...