Thursday , January 28 2021
Home / लाइफस्टाइल / आयुर्वेद में क्यों बताया गया है बाजरे को सेहत का खजाना, जानिए यहां

आयुर्वेद में क्यों बताया गया है बाजरे को सेहत का खजाना, जानिए यहां

बाजरा सेहत का खजाना है। इसलिए सर्दियों में हर रोज इसका सेवन करना चाहिए। क्योंकि सर्दियों में इसका सेवन करने से हमारी बॉडी को गर्मी मिलती है। अधिकतर हम घरों में गेंहू की रोटी ही खाते है लेकिन मक्का,ज्वार,बाजरा भी पौष्ट‍िक अनाज है। इसमें बाजरा एक अच्छा स्वादिष्ट और सर्दी के दिनों में खाने वाला अनाज है। इससे जुड़े फायदे जानकर आप हैरान हो जाएगें। चलिए आपको बताते हैं बाजारा खाने के लाभ के बारे में:-

कैल्शियम से भरपूर : बाजरा कैल्शियम से भरपूर होता है तथा इसके सेवन से सर्दी के दिनों में होने वाली जोड़ों की परेशानी नहीं होती है।

ज्यादा भूख नहीं लगती : यह काफी भारी होता है जिससे इसकी रोटी खाने से काफी देर तक भूख नहीं लगती। इसमें ट्रायप्टोफेन अमीनो एसिड पाया जाता है जिससे पेट भरा-भरा लगता है।

वजन रहेगा नियंत्रित : बाजरे की रोटी खाने से मोटापा नियंत्रित रहता है। सर्दी में भूख अधिक लगती है और इससे वजन काफी बढ़ जाता है लेकिन बाजरे की रोटी खाने से वजन काफी नियंत्रित हो जाता है।

आयरन : इसमें आयरन भी इतना अधिक होता है कि खून की कमी से होने वाले रोग भी नहीं होते।

लीवर : बाजरे की रोटी का सेवन करने से लीवर ठीक रहता है। इससे लीवर की सुरक्षा भी होती है।

अस्थमा : उच्च रक्तचाप तथा अस्थमा जैसी बीमारियों के लिए भी यह बहुत फायदेमंद है।

पाचनक्रिया रहेगी ठीक : बाजरे में भरपूर मात्रा में डायट्री फाइबर होते हैं जो पाचन में लाभकारी होते हैं जिससे कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो जाता है तथा दिल की बीमारियों का खतरा नहीं रहता।

यह भी पढ़ें:

ये है बाल झड़ने और टूटने की समस्या का रामबाण आयुर्वेदिक नुस्खा