Breaking News
Home / भारत / कर्नाटक- कांग्रेस का पेट्रोल की कींमतों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन आज से

कर्नाटक- कांग्रेस का पेट्रोल की कींमतों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन आज से

देश के कई हिस्सों में पेट्रोल की कीमतें 100 रुपये को पार करने के साथ कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) ईंधन की कीमतों में भारी बढ़ोतरी को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ शुक्रवार 11 जून से राज्य भर में “100 नॉट आउट अभियान” शुरू करेगी। कांग्रेस आज शुक्रवार से पांच दिवसीय अभियान के तहत 5,000 पेट्रोल पंपों पर प्रदर्शन करेगी।

कर्नाटक कांग्रेस पार्टी प्रमुख डीके शिवकुमार ने बुधवार को बेंगलुरु में पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “केपीसीसी 11 से 15 जून तक पांच दिवसीय ‘100 नॉट-आउट अभियान’ का आयोजन कर रहा है और राज्य के 5,000 प्रमुख पेट्रोल पंपों पर विरोध प्रदर्शन करेगा। 11 जून को सभी जिला मुख्यालयों में, 12 जून को सभी तालुक मुख्यालयों पर, 13 जून को होबली में, 14 जून को सभी ग्राम पंचायतों में और 15 जून को राज्य के अन्य सभी प्रमुख हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।”

उन्होंने बताया की सभी कोविड -19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए विरोध प्रदर्शन आयोजित किए जाएंगे। डीके शिवकुमार ने कहा, “पार्टी के नेता जूम कॉल के माध्यम से विरोध प्रदर्शन की निगरानी करेंगे। साथ ही, सभी कांग्रेस नेता ईंधन की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ अपने विचार साझा करते हुए एक मिनट का वीडियो बनाएंगे और उन्हें हमारे आईटी सेल के साथ साझा करेंगे।

“सरकार पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क और करों के नाम पर पिक-पॉकेटिंग करने के लिए नीचे आ गई है। इसलिए, हम इस व्यापक विरोध अभियान की शुरुआत कर रहे हैं।”

भाजपा पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा की, “यह सरकार कोविड -19 प्रोटोकॉल का उपहास उड़ा रही है। उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बड़ी रैलियां करने से कोई दिक्कत नहीं थी। जब उन्होंने तीन महीने तक व्यापक चुनाव प्रचार किया तो उन्हें कोई समस्या नहीं हुई और जब कुंभ मेला हुआ तो कोई समस्या नहीं थी। इसलिए, उन्हें कांग्रेस से पांच दिनों तक सुबह 11 बजे से दोपहर 12 बजे तक विरोध प्रदर्शन करने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।

शिवकुमार ने आगे कहा, “कांग्रेस पार्टी स्थिति की गंभीरता को समझती है। हम कोविड-19 नहीं फैलाना चाहते हैं। इसलिए, हम मास्क पहनेंगे, विरोध प्रदर्शन आयोजित करते समय सामाजिक दूरी बनाए रखेंगे।”
उन्होंने जोर देकर कहा कि केंद्र सरकार ने इस साल ईंधन की कीमतों में 48 बार बढ़ोतरी की है।

शिवकुमार ने तंज कसते हुए कहा, “केंद्र सरकार ने जनवरी में पेट्रोल की कीमतों में 10 बार, फरवरी में 16 बार, मई में 16 बार और जून के पहले नौ दिनों में छह बार वृद्धि की। उन्होंने मार्च और अप्रैल के महीनों में कीमतों में वृद्धि नहीं की क्योंकि पांच बार चुनाव हुए थे। पिछले सात वर्षों में, सरकार ने पेट्रोलियम उत्पादों पर कर, उत्पाद शुल्क और अधिभार के माध्यम से 21.60 लाख करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की है।”

बता दें, पेट्रोल की बढ़ती क़ीमतों को देख पिछले दिनो महाराष्ट्र में भी कांग्रेस ने प्रदर्शन किया ।

यह भी पढ़े-