Friday , September 25 2020
Home / लाइफस्टाइल / मन में गुस्से को दबाना नहीं होता सही

मन में गुस्से को दबाना नहीं होता सही

गुस्सा व्यक्ति के मन का एक सामान्य भाव है। जिस तरह किसी बात पर हम खुश होते हैं या दुखी होते हैं। ठीक उसी तरह व्यक्ति को गुस्सा भी आता है। अक्सर देखने में आता है कि गुस्सा आने पर या तो लोग चीखने-चिल्लाने लग जाते हैं या फिर उसे मन में ही दबाने की कोशिश करते हैं। यह दोनों ही तरीके आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप अपने गुस्से को जताना भी सीखें-

सबसे पहले तो यह जानना बेहद आवश्यक है कि आपको किन कारणों से गुस्सा आता है। इसके लिए आप एक डायरी बना सकते हैं। जब भी आपको गुस्सा आए तो बाद में आप डायरी मंे उन कारणों को लिखें। इससे आपको स्वयं का आकलन करने में आसानी होगी।

अगर आप गुस्से को खत्म करना चाहते हैं तो माफ करने की कला सीखें। हर उसको माफ करें जिनकी वजह से आपको गुस्सा आया है। ऐसा करके आप अपना बोझ कम करते हैं। ठीक इसी तरह, खुद को भी माफ करना सीखें। यह सोचें कि कोई भी गलती जानबूझकर नहीं करता है। इससे आपका गुस्सा खत्म हो जाता है।

जब आपको गुस्सा आता है तो उसे दबाने की बजाय खत्म करने का प्रयास करें। इसके लिए आपको अपने कहने पर नियंत्रण करना होगा। सबसे पहले खुद को संयत करें। एक गहरी और लंबी सांस लें। अपने दिल की धड़कन को सामान्य स्थिति तक लानेतक अपना ध्यान वहीं लगाए रखें। जब सही समय आए तब आप अपनी असहमति व्यक्त करें।

यह भी पढ़ें-

धनिया पाचन क्रिया को सही रखने में करता है मदद

Loading...