Home / लाइफस्टाइल / ऐसे पाएं डायबिटीज से छुटकारा

ऐसे पाएं डायबिटीज से छुटकारा

वर्तमान समय में दुनिया में करोड़ों लोग डायबिटीज से पीड़ित है। इस रोग को नियत्रंण में रखकर इसका असर बहुत ही सीमित किया जा सकता है। अनियंत्रित रहने पर डायबिटीज की वजह से नेत्रहीनता, गुर्दों की खराबी, दिल के रोग और अन्य कई तरह के गंभीर बीमारियों हो सकती हैं। डायबिटीज की पुष्टि होने से पहले के समय को प्रो-डायबिटीज भी कहा जाता है। इश दौरान खून में शुगर लेवल बहुत अधिक हो जाती है लेकिन इतनी अधिक नहीं होता कि डॉक्टर उसे डायबिटीज कह सकें।

हाल ही में हुए रिसर्च के अनुसार, प्री-डायबिटीड के स्तर पहुंचने वाले करीब 70 प्रतिशत लोग डायबिटीज का शिकार हो जाते हैं लेकिन फिर भी इससे अवश्य बचा जा सकता है। जींस या उम्र का तो कुछ नहीं किया जा सकता है। हालांकि स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर और इससे खतरे के प्रति जागरूक रहने का मतलब है कि आप प्रो-स्टेज पर पहुंचकर भी डायबिटीज को होने से पूर्ण्तः रोक सकते हैं या फिर इस स्टेज से बाहर भी आ सकते हैं।

1. व्यायाम करें: नियमित व्यायाम करने से यह रोग दूर रहता है। वर्कआउट, एरोबिक और कार्डियो ट्रेंनिग करने से शरीर में कोशिकाओं की संवेदनशीलता बढ़ती है, जिससे डायबिटीज का खतरा कम होता है।

2. खूब पानी पीएं: सही मात्रा में पानी पीने के कई फायदे है लेकिन शूगर पेयों में पोषक तत्वों की कमी होती है। सोडा, जूस या स्क्वैश जैसी ट्रिंक भी डायबिटीज का खतरा बढ़ाती है। एक अध्ययन के अनुसार, रोजाना 2 बार ज्यादा मीठी ड्रिंक का सेवन टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा 20 प्रतिशत तक बढ़ा देता है।

3. वजन कम करें: मोटापे से हर व्यक्ति को प्री-डायबिटीज और डायबिटीज नहीं होती लेकिन मोटापे से इसका खतरा बढ़ जाता है। अक्सर प्री-डायबिटीज के कारण लोगों के पेट की चर्बी अधिक होती है। इस तरह की फीलतू चर्बी से सरूजन और इंसुलिन प्रतिरोधकता बढ़ती है, जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है।

4. धूम्रपान छोड़ें: एक अध्ययन के अनुसार, धूम्रपान करने वाले लोगों में डायबिटीज का खतरा ऐसा न करने वालों की तुलना में 20 प्रतिशत ज्यादा होता है। वहीं, घूम्रपान छोड़ने वाले लोगों में डायबिटीज की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है।

जानिए, चमकी बुखार (जापानी इंसेफेलाइटिस) के लक्षण और बचाव के उपाय

Loading...