Home / मनी मेकिंग टिप्स / सिर्फ 8 लाख में शुरू करें फ्लाई ऐश ब्रिक्स का प्लांट, हर साल होगी 12 से 15 लाख की कमाई

सिर्फ 8 लाख में शुरू करें फ्लाई ऐश ब्रिक्स का प्लांट, हर साल होगी 12 से 15 लाख की कमाई

आपने यह तो सुना ही होगा कि जल्द ही मिट्टी से बनी लाल ईंटों के प्लांट धीरे-धीरे बंद करवा दिए जाएंगे। क्योंकि मिट्टी से बनी इन लाल ईंटो से पर्यावरण को नुकसान होता है। इसमें कृषि योग्य उपजाऊ मिट्टी का इस्तेमाल ईंट बनाने में किया जाता है।

ऐसे में फ्लाई ऐश ब्रिक्स का प्लांट आने वाले साल 2021 में कामयाब बिजनेस सामने साबित हो सकता है। फ्लाई ऐश ब्रिक्स के लिए फ्लाईएस राख थर्मल पावर हाउस से निकलने वाली फ्लाईएस से बनती है। इनकी खास बात यह होती है कि यह सामान्य लाल ईंटों से सस्ती होती है। और इन ईंटो से घर बनाते समय सीमेंट का खर्चा भी काफी कम हो जाता है।

लागत और मुनाफाः

एक ईंट को बनाने में लागतः 2.5 रुपये।
एक ईंट की बिक्री से मुनाफाः 5 रुपये।

फ्लाईएस ब्रिक्स प्लांट के लिये मशीनों की कीमत और अन्य ख़र्च:

फ्लाई ऐश ब्रिक्स प्लांट की मशीनें 8 से 25 लाख तक के लागत में आती है। अगर आप इस बिजनेस की शुरुआत करने जा रहे हैं तो आपको कम बजट 8 लाख से इसकी शुरुआत करनी चाहिए। 8 लाख वाली मशीन से 1 दिन में करीब 60000 ईंटें तैयार किया जा सकता है। अगर 1 ईट को ₹5 की कीमत में बेचा जाए आपको अपनी 60 हजार ईंटों में 3 लाख रुपये कि बिक्री होगी।

अब यह ध्यान देने वाली बात है कि एक ईंट को बनाने में ढाई रुपए का खर्चा आता है। इस तरह 60 हजार इंटे बनाने में 150000 रुपए का खर्चा आएगा। इसके साथ साथ आपको 4 लेबर की भी जरूरत होती है। ये लेबर मशीन में रॉ मैटेरियल यानी कि फ्लाई एस, रेत, सिमेंट, चूना  डालने का काम करते हैं। फिर ये लेबर तैयार हुई ईंटों को जमाने का काम करते है।

इन लेबरों पर पर इन्वेस्ट करने के लिए आपको हर माह करीब ₹40000 लगाना होगा। ऊपर हमने जो एक ईंट को बनाने में ढाई रुपए की कीमत तय की है उसमें आपके रॉ मैटेरियल है की कीमत भी मिली हुई है। इसके बाद यह मशीन जनरेटर या इलेक्ट्रिक सप्लाई से चलता है। तो 1 दिन में 60 हजार ईंट बनाने के लिए आपको अपनी मशीन को कुल 8 घंटे तक चलाना होगा। इसलिए इसमें बिजली के बिल का खर्चा भी जुड़ जाता है। साथ ही आपको इस प्लांट को लगाने के लिए एक बीघा जमीन की जरूरत होगी कम से कम इतनी जमीन तो आपके पास होनी ही चाहिए।

मुनाफाः

इस तरह से अगर रॉ मैटेरियल, बिजली का खर्चा, लेबरों का खर्चा, ईंटों को व्यवस्थित तरीके से रखने के लिए लगाए गए खर्च, इत्यादि का खर्च निकाल दिया जाए तो 60 हजार ईंटें बनाने वाली आठ लाख की मशीन आपको हर महीना करीब 1 लाख से 120000 रुपये तक मुनाफा करवाएगी।

वहीं इस प्लांट में लगने वाली मशीन की सबसे बड़ी खास बात होती है, कि इसमें अगर इसमें ईट का सांचा डाला जाए तो इससे ईंट बनाया जा सकता है। वहीं अगर इसमें पेवर ब्लॉक या किसी अन्य टाईल्स का सांचा डालते हैं तो इससे उसी रॉ मटेरियल से पेवर ब्लॉक या रोड टाइल्स भी बनाए जा सकता हैं।