Sunday , September 27 2020
Home / भारत / जानिए, इकोनॉमिक सर्वे 2019-20 से जुड़ी सभी महत्त्वपूर्ण बातें

जानिए, इकोनॉमिक सर्वे 2019-20 से जुड़ी सभी महत्त्वपूर्ण बातें

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने आज संसद में आर्थिक समीक्षा, 2019-20 पेश की। जानिए, इकोनॉमिक सर्वे 2019-20 से जुड़ी सभी महत्त्वपूर्ण बातें:-

आर्थिक समीक्षा में 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्‍यवस्‍था बनने संबंधी भारत की आकांक्षा का उल्‍लेख किया गया है जो निम्‍नलिखित पर काफी निर्भर है:

  •  बाजार के अदृश्‍य सहयोग को मजबूत करना
  • इसे भरोसे का सहारा देना
  • बिजनेस अनुकूल नीतियों को बढ़ावा देकर अदृश्‍य सहयोग को मजबूत करना
  • नए प्रवेशकों को समान अवसर देना
  • उचित प्रतिस्‍पर्धा और कारोबार में सुगमता सुनिश्चित करना
  • सरकार के ठोस कदमों के ज‍रिए बाजारों को अनावश्‍यक रूप से नजरअंदाज करने वाली नीतियों को समाप्‍त करना
  • रोजगार सृजन के लिए व्‍यापार को सुनिश्चित करना
  • बैंकिंग सेक्‍टर का कारोबारी स्‍तर दक्षतापूर्वक बढ़ाना
  • एक सार्वजनिक वस्‍तु के रूप में भरोसे का आइडिया अपनाना जो अधिक इस्‍तेमाल के साथ बढ़ता जाता है।

आर्थिक समीक्षा में सुझाव दिया गया है कि नीतियां ऐसी होनी चाहिए जो डेटा एवं प्रौद्यो‍गिकी के उपयोग के जरिए पारदर्शिता और कारगर अमल को सशक्‍त बनाए।

आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्‍यवस्‍था बनने संबंधी भारत की आकांक्षा निम्‍नलिखित पर निर्भर करती है:

बिजनेस अनुकूल नीति को बढ़ावा देना जो धन सृजन के लिए प्रतिस्‍पर्धी बाजारों की ताकत को उन्‍मुक्‍त करती है।

सांठगांठ वाली नीति से दूर होना जिससे विशेषकर ताकतवर निजी स्‍वार्थों को पूरा करने को बढ़ावा मिल सकता है।

शेयर बाजार के नजरिये से देखें, तो उदारीकरण के बाद व्‍यापक बदलाव लाने वाले कदमों में काफी तेजी आई :

उदारीकरण से पहले सेंसेक्‍स में शामिल किसी भी कंपनी के इसमें 60 वर्षों तक बने रहने की आशा थी। यह अवधि उदारीकरण के बाद घटकर केवल 12 वर्ष रह गई।

प्रत्‍येक पांच वर्ष में सेंसेक्‍स में शामिल एक तिहाई कंपनियों में फेरबदल देखा गया जो अर्थव्‍यवस्‍था में नई कंपनियों, उत्‍पादों और प्रौद्योगिकियों की निरंतर आवक को दर्शाता है।

Loading...