Wednesday , January 22 2020
Home / भारत / देशभर में चर्चा का विषय बना है डिटेंशन सेंटर, जानिए इससे जुड़े हर सवाल का जवाब

देशभर में चर्चा का विषय बना है डिटेंशन सेंटर, जानिए इससे जुड़े हर सवाल का जवाब

नागरिकता संशोधन विधेयक और एनआरसी को लेकर हुए विरोध प्रदर्शनों के बाद भी लगातार चर्चा और बहस जारी है। पीएम मोदी ने रामलीला मैदान में हुई रैली में डिटेंशन सेंटर का भी जिक्र किया था। इसके बाद कांग्रेस के तरफ से वीडियो ट्वीट किया गया था। अब डिटेंशन सेंटर के बारे में भी कई तरह की चर्चा है।

आइये जानते हैं डिटेंशन सेंटर के बारे:-

गैर-कानूनी तरीके से तथा वैध दस्तावेजों के बिना देश में घुसने वाले विदेशी लोगों को जिस जगह पर रखा जाता है उसे डिटेंशन सेंटर कहते हैं।

किसी भी देश के नागरिक को डिटेंशन सेंटर में कब तक रखते हैं:

गैर-कानूनी तरीके से तथा वैध दस्तावेजों के बिना देश में घुसने वाले व्यक्ति को तब तक जब तक ये पता न चल जाए कि वह असल में किस देश के हैं। बाद में उसे डिटेंशन सेंटर से वापस उसके देश भेज दिया जाता है।

क्या अन्य देशों में भी डिटेंशन सेंटर बनाये गए हैं?

हाँ, दुनिया के कई बड़े देशों में इस तरह के डिटेंशन सेंटर हैं। वहां गैर-कानूनी तरीके से तथा वैध दस्तावेजों के बिना देश में घुसने वाले व्यक्ति को रखा जाता है।

आगे की प्रक्रिया:

प्रत्येक देश को अवैध रूप से रह रहे विदेशी नागरिकों को उनके देश वापस भेजने का अधिकार होता है।

सबसे ज्यादा डिटेंशन सेंटर्स:

सबसे ज्यादा डिटेंशन सेंटर्स अमेरिका में बनाए गए हैं। यहां का पहला डिटेंशन सेंटर साल 1892 में न्यू जर्सी में बनाया गया था। 2014 में अमेरिका में फैमिली डिटेंशन सेंटर बनाया गया। इसे ओबामा के कार्यकाल में बनवाया गया था।

क्या भारत में बने हैं डिटेंशन सेंटर?

खबरों के मुताबिक असम के जेलों के अंदर ही डिटेंशन सेंटर्स संचालित हो रहे हैं। अलग से कोई डिटेंशन सेंटर नहीं बनाया गया है। डिटेंशन सेंटर्स के निर्माण कार्य होने की भी बात कही जा रही है।

Loading...
Loading...