Thursday , December 3 2020
Home / भारत / चमड़ा फैक्ट्री में काम कर रहे 26 बाल मजदूरों को छुड़वाया

चमड़ा फैक्ट्री में काम कर रहे 26 बाल मजदूरों को छुड़वाया

उत्तर पश्चिम दिल्ली के मुबारकपुर में मंगलवार को पर्स और चमड़े का उत्पाद बनाने वाली फैक्ट्रियों में काम कर रहे 26 बाल मजदूरों को छुड़वाया गया। यह रेस्क्यू ऑपरेशन एसडीएम रोहिणी मीना त्यागी और गैर सरकारी संस्था सहयोग केयर की मदद से किया गया।

पुलिस ने बताया की छुड़वाए गए बच्चों की उम्र 8 से 17 वर्ष है। रेस्क्यू के दौरान मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी (सीडीएमओ) और चाइल्ड वेलफेयर कमेटी की देख-रेख में सभी बच्चों का मेडिकल और कोविड टेस्ट भी कराया गया।

इस मौके पर बच्चों को बाल मजदूरी से बचाने वाली गैर सरकारी संस्था सहयोग केयर के डायरेक्टर शेखर महाजन ने बताया कि यह बच्चे आस-पास के राज्यों से लाए जाते हैं और इन फैक्ट्रियों में यह बच्चे काफी लम्बे समय से काम कर रहे थे। शेखर महाजन ने कहा कि इन बच्चों से फैक्ट्री मालिक द्वारा 12 घंटों से ज्यादा काम कराया जाता था जिसकी एवज में इन्हें केवल 100 रूपए दिहाड़ी ही दी जाती थी।

उन्होंने बताया कि इस तरह के शोषण के कारण बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर गहरा असर पड़ता है। सहयोग केयर ने लेबर डिपार्टमेंट और ज़िला मजिस्ट्रेट संदीप मिश्रा से इन बच्चों के लिए वेतन और मुआवजे की मांग के साथ फैक्ट्रियों को सील करके फैक्ट्री मालिकों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करने की मांग की है।

Loading...