Home / भारत / कंपनियों के देश छोड़ने पर बिलबिलाया चीन, कहा-वैश्विक मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने का भ्रम न पाले भारत
476314517

कंपनियों के देश छोड़ने पर बिलबिलाया चीन, कहा-वैश्विक मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने का भ्रम न पाले भारत

दुनियाभर के अधिकतर देश कोरोना वायरस की तबाही के लिए चीन को जिम्मेदार ठहरा रहे है। जिस वजह से कई विदेशी कंपनियां चीन से अपना कारोबार समेटकर भारत आने की इच्छुक दिखाई दे रही है। जिसे देख चीन पूरी तरह से बिलबिलाया हुआ है। उसकी बौखलाहट उसके बयानों में साफ झलक रही है। चीन का कहना है कि भारत कभी भी चीन की तरह वैश्विक मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने का भ्रम ना पाले। वह कभी भी चीन की बराबरी नहीं कर सकेगा।

चीन के सरकारी मुखपत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है। जिसमें यूपी में योगी सरकार द्वारा गठित इकोनॉमिक टास्क फोर्स का भी जिक्र किया गया है। जिसका गठन चीन से निकलने वाले मैन्यूफैक्चरिंग प्लांटों को लुभाने के लिए किया गया है। चीन के अखबार ने चेतावनी भरे शब्दों में लिखते हुए कहा है कि कोरोना वायरस की वजह से चीन किसी भी तरह से आर्थिक दबाब में नहीं है। इसलिए भारत वैश्विक मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने का भ्रम न पाले।

गौरतलब है कि कोरोना संकट का चीन को जिम्मेदार मानते हुए अमेरिका, जर्मनी और फ्रांस समेत दुनिया की कई कंपनियां वहां से कारोबार समेटने की योजना बना रही है। ऐसी स्तिथि में वे भारत को चीन के विकल्प के रूप में देख रही है। पूरे मामले पर चीन ने भारत पर तंज भरे स्वर में कहा है कि भारत में खराब बुनियादी ढांचे, कुशल श्रम की कमी और कठोर विदेशी निवेश प्रतिबंध अन्य विदेशी कंपनियों के लिए मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने के लिए बाधा है।

यह भी पढ़े: केंद्र सरकार ने लिया 25 मई से घरेलू उड़ाने शरू करने का फैसला, यात्रियों के लिए गाइडलाइन जारी
यह भी पढ़े: कोरोना संकट को अवसर में बदलकर सप्लाई-चेन का अहम हिस्सा बन सकता है भारत- अमेरिका

Loading...