Breaking News
Home / भारत / बिहार- मदरसे में विस्फोट के बाद सियासी गरमागर्मी तेज

बिहार- मदरसे में विस्फोट के बाद सियासी गरमागर्मी तेज

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) के प्रमुख जीतन राम मांझी ने गुरुवार को भाजपा नेताओ पर मदरसों को आतंकवादी गतिविधियों का केंद्र करार देने पर हमला किया है। बिहार के बांक़ा में एक मस्जिद के पास स्तिथ मदरसे में मंगलवार सुबह को ज़ोरदार धमाका हुआ था जिससे मदरसा पूरी तरह ध्वस्त हो गया जिसकी चपेट में मदरसे के एक इमाम की दो दिन बाद मृत्यु हो गई और चार लोग घायल हो गए।

विस्फोट के बाद से राज्य में सियासी गरमागर्मी तेज हो गई इसी बीच भाजपा के बिस्फी से विधायक हरिभूषण ठाकुर ने कहा था की “मदरसों में सिर्फ़ आतंकवाद की शिक्षा दो जाती है।” उनके इस बयान के बाद से राज्य में सत्ताधारी गठबंधन में तकरार शुरू हो गई ऐसे में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और एचएएम प्रमुख जीतन राम मांझी ने आरोप लगाया कि जब मुस्लिम मदरसों में पढ़ते हैं, तो उन्हें आतंकवादी कहा जाता है, और जब गरीब दलित अपने जीवन में सफलता हासिल करते हैं या गलत कामों के खिलाफ आवाज उठाते हैं, तो उन्हें नक्सली करार दिया जाता है।
मांझी ने कहा, “लोगों को आतंकवादी और नक्सली घोषित करने वाले नेताओं को इस मानसिकता से बाहर आना चाहिए। यह देश की एकता और संप्रभुता के लिए अच्छा नहीं है।”

HAM के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि जो नेता मदरसों पर सवाल उठा रहे हैं, उन्हें सार्वजनिक तौर पर अपने बयानों के लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा “विस्फोट की गहन जांच करने के बारे में हमारा स्पष्ट रुख है। अब बांका पुलिस ने स्पष्ट किया है कि घटना से कोई आतंकी संबंध नहीं था। यह एक कच्चा बम था जो मदरसे में फटा था और घटना को किसी भी तरह की आतंकी गतिविधि से जोड़ने के लिए अब तक कोई सबूत एकत्र नहीं किया गया है।”

रिजवान ने कहा, “भाजपा नेताओं के भड़काऊ बयान राज्य में सांप्रदायिक तनाव पैदा कर सकते हैं।”

बता दें, HAM बिहार की एनडीए सरकार में गठबंधन सहयोगी है ज़ो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी है।

यह भी पढ़े-