Home / लेटेस्ट न्यूज़ / अमेज़न इंडिया ने 100 से अधिक शहरों के लिए पैकेजिंग-फ्री शिपिंग का बढ़ाया दायरा

अमेज़न इंडिया ने 100 से अधिक शहरों के लिए पैकेजिंग-फ्री शिपिंग का बढ़ाया दायरा

अमेज़न इंडिया ने आज घोषणा की है कि अपनी सप्‍लाई चेन में पैकेजिंग वेस्‍ट को कम से कम करने के लिए इसने एक नई उपलब्धि हासिल की है। कंपनी ने अपनी भारत भर में की जा रही पहल, पैकेजिंग-फ्री शिपिंग (पीएफएस) को देश के 100 से अधिक शहरों में विस्‍तारित किया है। पीएफएस एक स्‍थायी पैकेजिंग समाधान है जिसमें ग्राहकों के ऑर्डर्स को उनकी मूल पैकेजिंग में ही भेजा जाता है। इसके लिए कोई अतिरिक्त पैकेजिंग नहीं की जाती या फिर बहुत कम पैकेजिंग की जाती है। अमेज़न ने 9 शहरों में जून 2019 में पहली बार भारत में पीएफएस को लॉन्च किया था और एक साल में ही कंपनी 100 से अधिक शहरों में सफलतापूर्वक इस कार्यक्रम का विस्तार करने में सक्षम रही है।

पीएफएस के इस विस्तार के साथ, अमेज़न इंडिया फुलफिलमेंट सेंटर्स से भेजे गए 40% से अधिक अमेज़न ऑर्डर्स अब या तो पैकेजिंग-मुक्त हैं या इनकी पैकेजिंग को कम किया गया है। पीएफएस के साथ, ग्राहकों के कई ऑर्डर्स डिलिवरी के दौरान पूरी तरह सुरक्षित हैं और इन्‍हें दोबारा उपयोग में लाए जाने वाले डब्‍बों में भेजा जाता है।

पीएफएस एल्गोरिदम टेक्नोलॉजी का लाभ उठाती है और यह ग्राहक की लोकेशन, ऑर्डर पहुंचाने की दूरी, ऑर्डर किए गए उत्पाद की श्रेणी जैसे मानकों पर आधारित ऑर्डर्स पर लागू होती है।  अमेज़न के व्‍यापक और तेज़ी से बढ़ रहे सेलेक्शन के साथ,  Amazon.in पैकेजिंग सुरक्षा को समायोजित करने के लिए मशीन लर्निंग एल्गोरिदम का उपयोग करता है। यह प्रोडक्‍ट और परिवहन की स्थितियों पर निर्भर करता है। जिन उत्पादों को पैकेजिंग-फ्री भेजा जा रहा है, उनमें शामिल हैं टेक एसेसरीज, होम एवं होम इम्‍प्रूवमेंट प्रोडक्‍ट्स, जूते, लगेज और भी बहुत कुछ । लिक्विड, नाजुक वस्तुएं और पर्सनल केयर प्रोडक्‍ट्स जिन्‍हें परिवहन के दौरान अतिरिक्त सुरक्षा की आवश्यकता पड़ती है, को पैकेजिंग के साथ भेजना जारी है।

 प्रकाश कुमार दत्ता, डायरेक्‍टर, कस्‍टमर फुलफिलमेंट एवं सप्‍लाई चेन, अमेज़न इंडिया ने कहा,अमेज़न इंडिया में, हम ऐसे नए-नए और स्‍थायी पैकेजिंग समाधानों को बनाने के लिए आक्रामकता से काम कर रहे हैं जो हमें अपशिष्‍ट को कम करने में मदद करेंगे। हम ई-कॉमर्स फ्रेंडली पैकेजिंग प्रदान करने के लिए कई ब्रांड्स के साथ काम कर रहे हैं ताकि सेकेंडरी पैकेजिंग के उपयोग को कम किया जा सके। एक साल में 100 शहरों में पीएफएस का विस्तार स्‍थायित्‍व के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। हमने ग्राहकों को उनके ऑर्डर्स की सुरक्षित डिलिवरी प्रदान करने के साथ ही इस पहल का विस्तार करना जारी रखा है।”

जानकारी और सस्‍टेनेबिलिटी मेट्रिक्स के लिए अमेज़न की सस्‍टेनेबिलिटी वेबसाइट पर जाएं, जो द क्लाइमेट प्लेज तक पहुंचने की दिशा में कंपनी की प्रगति को साझा करती है। मौजूदा अभिनव प्रोग्राम के जरिये स्‍थायित्‍वपूर्णता को लेकर अमेज़न की दीर्घकालिक प्रतिबद्धता पर निर्मित लक्ष्‍य, प्रतिबद्धतायें, निवेश और प्रोग्राम में शामिल हैं – शिपमेंट जीरो- सभी शिपमेंट्स को नेट जीरो कार्बन बनाने के लिए अमेज़न का विजन जिसमें 2030 तक 50प्रतिशत नेट जीरो कार्बन का लक्ष्‍य है, बिना किसी परेशानी के पैकेजिंग और शिप इन ओन कंटेनर जैसी सस्‍टेनेबल पैकेजिंग पहलें, जिन्‍होंने 2015 तक पैकेजिंग वेस्‍ट को 25 प्रतिशत तक कम किया है, रिन्‍युएबल एनर्जी प्रोग्राम, क्‍लोज्‍ड लूप फंड के साथ सर्कुलर इकोनॉमी, और रोजाना की जाने वाली कई अन्‍य पहलें जिनका नेतृत्‍व अमेज़न की टीमों द्वारा किया जाता है।

Loading...