Home / मनी मेकिंग टिप्स / अगरबत्ती बनाने का व्यापार: कम लागत में हर माह कमाए 30000 से 50000 तक मुनाफा, जानिए पूरा प्रोसेस

अगरबत्ती बनाने का व्यापार: कम लागत में हर माह कमाए 30000 से 50000 तक मुनाफा, जानिए पूरा प्रोसेस

भारत में धार्मिक और सामाजिक कार्य में अगरबत्ती का खास उपयोग किया जाता है। भारत में लगभग हर संप्रदाय और समुदाय के लोग अगरबत्ती का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा भारत की नजदीकी पड़ोसी राज्य श्री लंका, म्यानमार, चाईना, में भी इसका उपयोग किया जाता है। इसकी मांग भी साल भर बनी रहती है। त्योहारों के समय इसकी मांग में बहुत ज्यादा वृद्धि हो जाती है। अगरबत्ती बनाने का व्यापार वैसे तो बहुत छोटा है, पर छोटे-बड़े दोनों तौर पर किया जा सकता है। इसके साथ ही कुछ खास फ्रैगनेंस वाले अगरबत्ती का उपयोग खुशबू फैलाने के लिए भी किया जाता है।

अगरबत्ती का व्यवसाय कैसे शुरू किया जाएः

इस व्यापार में बहुत कम निवेश की जरूरत होती है। पर फिर भी इसके लिए पहले आपको एक बिजनेस प्लान तैयार करना होगा।

अगरबत्ती के व्यापार के लिए कच्ची सामग्रीः

अगरबत्ती की व्यवसाय के लिए कच्ची सामग्री पूरे भारत में आपको हर जगह से प्राप्त हो जाएगी। अच्छी क्वालिटी का माल कच्चा माल लेने के लिए आपको कोलकाता के कृष्णा ग्रुप, दुर्गा इंजीनियर, लोकनाथ अगरबत्ती त्यागी, कंपनियों से सामग्री लिया जा सकता है। अहमदाबाद में एम के पंचाल, शांति एंटरप्राइजेज ऐसी कंपनियां है जो यह सामग्रियां उपलब्ध करवाती है।
अगर आप यहां जाकर या यहां से सामान मंगाने में कठिनाई महसूस करते हैं। तो आप इंडियामार्ट और ट्रेड इंडिया के जरिए भी आसानी से ऑनलाइन इन कंपनियों से माल मंगवा सकते हैं।

व्यवसाय शुरू करने के लिए जरूरी स्थानः

अगर आप इस व्यवसाय को बहुत छोटे स्तर पर शुरू करना चाहते हैं तो आप इसे अपने घर के कमरे से भी शुरू कर सकते हैं। लेकिन अगर आप थोड़ा सा स्तर बढ़ाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 1000  स्क्वायर फीट की जगह की जरूरत होगी।

अगरबत्ती बनाने में लगने वाला कुल समयः

आज अगरबत्तियां बनाने के लिए हाथों का भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके साथ ही कई तरह की ऑटोमेटिक मशीन भी है जो करीब 1 मिनट में 150 से 200 तक अगरबत्तियां का निर्माण कर सकते हैं। अगर आप हाथ से बनाने वाले कारीगरों की द्वारा इस अगरबत्ती का निर्माण कराते हैं तो इनकी संख्या कम हो जाती है। लेकिन ऑटोमेटिक मशीन के जरिए 1 मिनट में आसानी से डेढ़ सौ से ऊपर अगरबत्ती का निर्माण किया जा सकता है।

अगरबत्ती का व्यवसाय शुरू करने में लगने वाली कुल लागतः

अगर आप इस व्यवसाय को हाथ से बनाने वाले कर्मचारियों के जरिए शुरू करने की सोच रहे हैं तो मात्र ₹13000 में इसे शुरू कर सकते हैं।
अगर आप इसे मशीन के जरिए शुरू करना चाहते हैं तो एक मैंनुएल मशीन का दाम करीब ₹14000 है। सेमी ऑटोमेटिक मशीन का दाम 90 हजार से ₹1 लाख तक होता है। और हाई स्पीड ऑटोमेटिक मशीन की कीमत डेढ़ लाख तक होती है।

अगरबत्ती को बनाने के लिए लगने वाली कच्ची सामग्री और उनके मूल्यः

चारकोल डस्ट, जिगात पाउडर, सफेद चिप्स पाउडर, चंदन पाउडर, बांस स्टीक, परफ्यूम, डीइपी, पेपर बॉक्स, रैपिंग पेपर, कुप्पम डस्ट।
सभी बहुत ही कम मूल्य में मिलने वाली सामग्रियां है। परफ्यूम इसमें सबसे कीमती होता है जिसमें एक पीस परफ्यूम की कीमत ₹400 तक हो सकती है। बाकी सारी चीजें आपको ₹13 से लेकर ₹100 प्रति किलो में उपलब्ध हो जाती है।

अगरबत्ती के व्यवसाय के लिए रजिस्ट्रेशनः

सबसे पहले इसे इसके लिए आपको स्थानीय प्रशासन से एक लाइसेंस लेना होता है। वहां से अपनी कंपनी के नाम पर पैन कार्ड प्राप्त करना होगा। एक बैंक का अकाउंट खुलवाना होगा। अपने व्यापार को एस एस आई यूनिट में पंजीकृत करवाना होगा। इसके बाद वैट रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करना होगा।
आपको अपने व्यापार के लिए 1 लोगों भी पंजीकृत करवाना होगा। ताकि आपकी कंपनी का ब्रांड नेम सुरक्षित रह सके। अगर आप इस व्यवसाय को बहुत बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते हैं। तो निर्माण के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी प्राप्त करना भी आवश्यक हो जाता है। साथ ही फैक्ट्री के लिए लाइसेंस लेना होगा।

अगरबत्ती के व्यापार से होने वाला मुनाफाः

इस तरह बहुत ही कम लागत में अगरबत्ती के व्यापार के जरिए आप महीने में 30000 से लेकर ₹50000 तक कमा सकते हैं। जितना ज्यादा आप अपनी फैक्ट्री के स्तर को बढ़ाते जाते हैं कमाई उतनी ही ज्यादा बढ़ती जाती है। 1 किलो माल लेने में मात्र ₹13000 खर्च होते हैं और उसके जरिए आप करीब ₹30000 की अगरबत्ती बना सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

Loading...