Breaking News
Home / लेटेस्ट न्यूज़ / अदाणी पोर्ट्स ने कृष्णापत्तनम पोर्ट में अपना स्वामित्व 75% से बढ़ाकर 100% किया

अदाणी पोर्ट्स ने कृष्णापत्तनम पोर्ट में अपना स्वामित्व 75% से बढ़ाकर 100% किया

भारत की सबसे बड़ी प्राइवेट पोर्ट्स एंड लॉजिस्टिक्स कंपनी और डायवर्सिफ़ाइड अदाणी ग्रुप की प्रमुख परिवहन शाखा, अदाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (एपीएसईज़ेड),ने अदाणी कृष्णापत्तनमपोर्ट लिमिटेड, (कृष्णापत्तनम पोर्ट) में 2,800 करोड़ रुपये में रेजिडुअल 25% हिस्सेदारी के अधिग्रहण की घोषणा की है। इस अधिग्रहण से कृष्णापत्तनम पोर्ट में एपीएसईज़ेड की हिस्सेदारी 75% से बढ़कर 100% हो जाएगी।

अक्टूबर 2020 में अधिग्रहित किए गए 75% स्वामित्व के साथ, अधिग्रहण का अर्थ 10.3 गुने के मल्टिपल्स वाले ईवी/वित्त वर्ष 21 के ईबीआईटीडीए सहित13,675 करोड़ रुपये के एंटरप्राइज वैल्यू से है।

कृष्णापत्तनम पोर्ट (चेन्नई पोर्ट्स से ~ 180 किमी की दूरी पर) आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु की सीमा के करीब आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में भारत के पूर्वी तट पर स्थित है। कृष्णापत्तनम पोर्ट एक सभी मौसम में सक्रिय रहने वाला, गहरे पानी वाला बंदरगाह है, जिसकी 64 एमएमटीपीए की वर्तमान क्षमता वाली मल्टी-कार्गो सुविधा है। 20 किमी के वाटरफ्रंट और 6,800 एकड़ भूमि सहित, कृष्णापत्तनम पोर्ट में 300 एमएमटीपीए की मास्टर प्लान क्षमता है और 50 साल की रियायत प्राप्त है।

इस पोर्ट से वित्त वर्ष 21 में 38 एमएमटी वॉल्यूम, 1,840 करोड़ रुपये का राजस्व और 1,325 करोड़ रुपये कर ईबीआईटीडीए हासिल होने की उम्मीद है। अधिग्रहण के बाद से, कृष्णापत्तनम पोर्ट ने व्यावसायिक प्रक्रिया की पुनर्रचना पर ध्यान केंद्रित किया है जिसके परिणामस्वरूप ईबीआईटीडीए मार्जिन वित्त वर्ष 2020 के 57%से बढ़कर वित्त वर्ष 2021 में 72% हो गया है।

एपीएसईज़ेड के चीफ एक्जिक्यूटिव ऑफिसर एवं होलटाइम डायरेक्टर श्री करण अदाणी ने कहा कि “कृष्णापत्तनम पोर्ट में हमारा स्वामित्व एपीएसईज़ेड के 2025 तक 500 एमएमटी के लक्ष्य के प्रतिे लिए  और भारत के पश्चिम तथा पूर्वी तटों के बीच कार्गो के बीच बराबरी लाने की हमारी व्यापक रणनीति के लिए मजबूती प्रदान करता है। कृष्णापत्तनम पोर्ट 2025 तक दोगुना ट्रैफिक संभालने की राह पर है और यह एक मल्टी-प्रॉडक्ट और कार्गो एनहांसमेंट रणनीति के जरिये नियोजित पूंजी पर रिअर्न बढ़ाते हुए, उच्च विकास प्रदान करेगा। हमें विश्वास है कि हम 2025 तक कृष्णापत्तनम पोर्ट में थ्रूपुटको दोगुना और ट्रिपल ईबीआईटीडीए को तिगुना करने में सक्षम रहेंगे। हम कृष्णापत्तनम पोर्ट को दक्षिणी आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के लिए प्रवेश द्वार बनाने को लेकर प्रतिबद्ध हैं। पोर्ट के साथ उपलब्ध बड़ी औद्योगिक भूमि के साथ हम कृष्णापत्तनम को एक मैन्यूफैक्चरिंग और इंडस्ट्रियल सेंटर बना देंगे।”