Breaking News
Home / भारत / अनोखी ममता: महिला ने बंदर के नाम कर दी संपत्ति, घर में बनवाया मंदिर

अनोखी ममता: महिला ने बंदर के नाम कर दी संपत्ति, घर में बनवाया मंदिर

अगर आपने एंटरटेनमेंट फिल्म देखी होगी तो आपको पता होगा कि इस फिल्म में कुत्ते का मालिक अपनी पूरी संपत्ति अपने कुत्ते के नाम कर देता है. ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में देखने को मिला. जहां एक महिला ने अपनी सारी संंपत्ति अपने पालतू बंदर के नाम कर दी. संपत्ति नाम करने की वजह थी कि जब से बंदर उनकी जिंदगी में आया था तब से उसने उनके जीवन में रंग भर दिया था.

बंदर के नाम का मंदिर बनवाया

दरअसल, उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में जानवरों के प्रति अनूठे प्यार की दिलचस्प कहानी सामने आई है. इस कहानी में सबसे बड़ा किरदार चुनमुन (बंदर) है. चुनमुन की वजह से एक महिला की झोली में इतनी खुशियां आ गईं कि उसने सारी संपत्ति अपने पालतू बंदर के नाम कर दी. चुनमुन की पिछले साल जब मौत हो गई, तो महिला ने अपने घर में उसका मंदिर बनवा दिया.बीते मंगलवार को मंदिर में राम-लक्ष्मण और सीता के साथ बंदर की मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की गई. इस मौके पर भंडारा भी कराया गया. महिला ने अपने घर का नाम भी बंदर के नाम पर रखा है.

बंदर बना लिया बेटा

रायबरेली के शक्तिनगर निवासी कवयित्री सबिस्ता को यह बंदर करीब 13 साल पहले मिला था. सबिस्ता मानती हैं कि चुनमुन के आने के बाद मानो उनकी जिंदगी ही बदल गई थी. चुनमुन उनके लिए भाग्यशाली साबित हुआ था. सबिस्ता मुस्लिम हैं, इसके बावजूद उन्होंने अपने घर में मंदिर बनवाया. उन्होंने 1998 में ब्रजेश श्रीवास्तव से प्रेम विवाह किया था. दोनों की कोई संतान नहीं है, इसलिए उन्होंने चुनमुन को ही अपना बेटा मान लिया. चुनमुन के नाम से एक संस्था बनाई और सारी संपत्ति उसके नाम कर दी.

 

साबिस्ता ने बंदर की अच्छी तरह से परवरिश की. घर के तीन कमरे उसके लिए विशेषतौर रखे गए थे. चुनमुन के कमरे में एयरकंडीशनर और हीटर भी लगा हुआ था. 2010 में शहर के पास ही छजलापुर निवासी अशोक यादव के यहां पल रही बंदरिया से उसका विवाह भी कराया गया.

Loading...
Loading...