Breaking News
Home / भारत / तो ऐसे हो रही है जीएसटी कर चोरी

तो ऐसे हो रही है जीएसटी कर चोरी

नई दिल्ली। GST के क्रियान्वयन के 9 माह के भीतर ही राजस्व प्राधिकरणों ने काला बाजारी एवं आयात के निम्न कीमत निर्धारण के जरिए कर चोरी का पता लगाया है।

जानकारी के मुताबिक प्राधिकरणों ने वृहद पैमाने की सूचनाओं के विश्लेषण की पद्धति ( बिग डाटा एनालिटिक्स) के जरिए पाया कि आयातक GST का भुगतान तो कर रहे हैं पर वह वस्तुओं की आपूर्ति उनका बिलकाटे बिना कर रहे हैं।

अब ओला ने यहां पर शुरू की टैक्सी एप सेवा

जबकि आयात पर एकीकृत GST (आईजीएसटी) के भुगतान का समायोजन अंतिम ग्राहक द्वारा चुकाए जाने वाले GST या फिर रिफंड के दावे के साथ समायोजित किया जा सकता है।

विश्लेषण के मुताबिक कई बड़ी कंपनियों सहित आयातक आयात पर एकीकृत जीएसटी का भुगतान कर रहे हैं लेकिन इसके क्रेडिट का दावा नहीं कर रहे हैं।

खबरों के मुताबिक इससे पता चलता है कि घरेलू बाजार में आयातित वस्तुओं की आपूर्ति बिना बिल के की जा रही है। लग्जरी और नुकसानदेह वस्तुओं पर उपकर के मामले में ऐसी स्थिति पाई गई है।

जानिए, सोने और चांदी के सोमवार के दाम

कंपनियां आयात के वक्त GST का भुगतान कर रही हैं पर उपभोक्ताओं द्वारा अंतिम भुगतान के बाद वे क्रेडिट का दावा नहीं कर रही हैं।

GST परिषद ने शनिवार को हुई बैठक में कर चोरी पर चर्चा की है। खबरों के मुताबिक परिषद ने कर चोरी के लिए जिम्मेदार कारकों को समाप्त करने और पर्याप्त कदम उठाने के लिए आंकड़ों के आगे भी विश्लेषण का निर्देश दिया है।

Loading...
Loading...