Breaking News
Home / भारत / शेयर बाजारों के सीईओ के कार्यकाल की सीमा नियत करने पर विचार कर रहा है सेबी

शेयर बाजारों के सीईओ के कार्यकाल की सीमा नियत करने पर विचार कर रहा है सेबी

देश की दिग्गज बाजार नियामक सेबी शेयर बाजारों के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (CEO) के पद पर एक व्यक्ति के लिए पांच – पांच साल का अधिकतम दो कार्यकाल रखे जाने का नियम लागू करने का विचार कर रहा है। यह प्रस्ताव बाजार के बुनियादी ढांचे का स्वामित्व रखने और उनका संचालन करने वाली संस्थाओं पर लागू निमयों में व्यापक बदलाव की योजना का महत्वपूर्ण हिस्सा है ।

यहाँ एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह कहा कि इसके अलावा सेबी नए शेयर बाजार शुरू करने के मामले में मालिकाना हक के नए नियम लाने की भी योजना बना रहा है । उसका यह मानना है कि नए एक्सचेंज खुलने से निवेशकों को बेहतर उत्पाद मिलेंगे और बाजार में निवेश की लागत भी घटेगी ।

सेबी के निदेशक मंडल की आगामी 21 जून को होने वाली बैठक में ऐसे कई नियामकीय और प्रक्रियागत विषयों पर परामर्श पत्र लाने का फैसला किया जा सकता है। एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार सेबी शेयर बाजारों , क्लीयरिंग कारपोरेशन तथा डिपोजिटरीज सभी में शेयरधारित की सीमा सुसंगत बनाने का भी विचार कर रहा है।

इसके अलावा सेबी ने इन संस्थानों में प्रमुख प्रबंधकीय कॢमयों की परिभाषा के विस्तार का भी प्रस्ताव किया है। इसके तहत प्रबंध निदेशक और CEO से दो पद नीचे तक के अधिकारियों को महत्वपूर्ण प्रबंधकर्मी माना जाएगा।

साथ ही सेबी बाजार का संचालन करने वाले संस्थान (कंपनी) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (CEO) के लिए पांच – पांच साल का अधिकतम दो कार्यकाल या 65 साल की आयु में से जो भी पहले हो, उस तक सीमित रखने की सोच रहा है। अभी इस इस पद के लिए कार्यकाल की कोई अधिकतम सीमा नहीं है।

अब गांवों में एयरटेल ने शुरू किया ये काम

Loading...
Loading...