Home / व्यापार / बार-बार नोट बदलने वालों की होगी पहचान, लगेगी स्याही!

बार-बार नोट बदलने वालों की होगी पहचान, लगेगी स्याही!

नई दिल्ली। अब बार-बार 500 और 1000 रुपए के नोट बदलने वालों पर कार्रवाई हो सकती हैं, क्योंकि सरकार ने हर रोज नोट बदलने वालों की पहचान करने के लिए नोट बदलने वालों की उंगुली पर स्याही लगाने का निर्णय लिया है। बैन पर मच रही अफरा तफरी पर के बाद सरकार ने ये फैसला लिया है। ताजा मामले में आर्थिक मामलों के सचिव शक्ति कांत दास ने मंगलवार को कहा है कि जिस तरह से लोग नोट बदलवाने के लिए बैंक के बाहर लाइन लगाकर खड़े हैं अब से कैश लेने के बाद उनकी उंगली पर स्याही से निशान लगेगा।

आपको बता दें कि जैसे वोट डालने के बाद वोटर की अंगुली पर स्याही लगा दी जाती है जिससे कि वो दोबारा वोट डालने आए तो पहचान हो सके, उसी तरह कैश लेने के बाद बैंककर्मी कैश लेने के वाले की अंगुली पर स्याही लगा देंगे। जिससे भीड से छुटकारा मिल सकेगा। सरकार ने यह कदम इसलिए उठाया है कि एक ही इंसान बार बार कैश लेने के लिए लाइन में खड़ा हो जाता है और नए लोग कैश नहीं ले पाते हैं।

दास ने बताया कि पीएम मोदी ने बीते 2 दिनों में 2 बार मुद्रा आपूर्ति की समीक्षा की है। बैंकों के पास नकदी की समस्या नहीं है और जो लोग अफवाह फैला रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

दास ने यह भी बताया कि बैंक कर्मचारी हड़ताल पर नहीं जा रहे हैं। इस तरह की खबरें जो सोशल मीडिया पर चल रही हैं वो महज अफवाह है। जनधन खातों पर सरकार की कड़ी नजर है। वैधानिक तौर पर कैश जमा कराने वालों के ऊपर कार्रवाई नहीं होगी। धार्मिक संस्थाओं से अपील करते हुए दास ने कहा कि छोटी नकदी को तत्काल बैंक में जमा कराएं ताकि लोगों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

शक्ति कांत दास ने जानकारी देते हुए कहा है कि बैंकों में भीड़ की एक बड़ी वजह एक ही इंसान का बार-बार बैंक जाकर नोट एक्सचेंज कराना भी है इसलिए सरकार ऐसा कदम उठा रही है। साथ ही उन्होंने कहा है कि हालात धीरे-धीरे सुधर रहे हैं और आने वाले दिनों में स्थिति बेहतर हो जाएगी। उन्होंने अधिक जानकारी देते हुए यह भी कहा है कि नोट को रगड़ने से अगर हल्का सा रंग नहीं निकलता है वह जाली नोट हो सकता है।

हिन्दी न्यूज एंड करेंट अफेयर्स +  व्यापार

मिल रहे हैं ATM से सिर्फ 100-100 के नोट

खत्म हो गया नमक निकली महज अफवाह, मची अफरा-तफरी

SBI में सामान्य दिनों से 20 प्रतिशत ज्यादा हुआ लेनदेन

Loading...
Loading...